Wednesday, July 11, 2007

सजल जल

नभ में जल है,
जल में जल है,
थल में जल है।

ये कैसी विडम्बना ?
तरसे मानव जल को है।

भीगा तन है,भीगा मन है,
सूखे होंठ -गला रुन्धा सा।
हर नयन मगर सजल है......

पूनम अग्रवाल

4 comments:

शैलेश भारतवासी said...

पूनम जी,

आज पहली बार आपकी कविताओं पर नज़र पड़ी। आपके ब्लॉग का लिंक हिन्द-युग्म से जोड़ा जा रहा है। ज़रा इसे देखिए, आपकी अभिरुचि का हो तो ज़रूर भाग लीजिएगा।

धन्यवाद।

Audin said...

u write great - mam -

Poonam Agrawal said...

Thanks a lot...audinji.

Dinesh said...

Yes Poonamji you really write great and you are very senisitive
and it seems always thinking deep. Please keep on writing and guiding the new generation. AUR YEH HAMARA PRAYAS HONA CHHAHIYE KI HUM, KUM SE KUM,APNE AAS PASS TO KISI KI BHI AANKH KO DUKH VA PARESHANI SE NAM YA SAJAL NA HONE DEIN. UNKO ITNI KHUSHI DEIN KI AANKH SE DO BOOND JAL BAH HEE JAYE.
With best wishes.
Dr.Dinesh Kumar Nagpal